Home News Adesh Gupta Asked Arvind Kejriwal How Many Patients From Outside States Were...

Adesh Gupta Asked Arvind Kejriwal How Many Patients From Outside States Were Treated In Delhi ANN | दिल्ली: बीजेपी अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने सीएम केजरीवाल से पूछा

6
0

दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष ने पत्र में कहा कि शुरुआत में दिल्ली सरकार ने 30 हजार बिस्तरों की व्यवस्था की घोषणा की थी लेकिन जब मामले बढ़े तो यह साबित हो गया कि सरकार के पास 4 हजार रोगी बिस्तर भी नहीं है.

नई दिल्लीः दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर दिल्ली सरकार की राजनीतिक हताशा और गुमराह करने वाले बयान पर स्पष्टीकरण मांगा है. आदेश गुप्ता ने खत के जरिए सीएम केजरीवाल से पूछा है कि दिल्ली सरकार बताएं कि 10 जून तक दिल्ली में कितने मरीजों का सरकारी अस्पतालों में भर्ती कर इलाज किया गया? इसमें से कितने मरीज अन्य राज्यों जैसे हरियाणा राजस्थान पंजाब उत्तर प्रदेश बिहार और अन्य राज्यों के थे? पत्र में पूछा गया है कि सरकार ये बताए कि दिल्ली में कोरोना वायरस मरीजों में से कितने अन्य राज्यों के हैं?

अपने पत्र में आदेश गुप्ता ने लिखा है, ” मार्च, 2020 में जब कोरोना का संक्रमण फैलना शुरू हुआ और लॉकडाउन लगा तो उस वक्त दिल्ली सरकार ने घोषणा की थी कि उसके पास 30 हजार बिस्तरों की अस्पतालों में व्यवस्था है अप्रैल एवं मई के मध्य तक कोरोना के मामले बढ़ने की रफ्तार कम रही पर जैसे ही मामले बढ़े यह साबित हो गया कि दिल्ली सरकार के पास 30 हजार तो दूर 4 हजार रोगी बिस्तर भी नहीं है.”

उन्होंने आगे लिखा, ”पिछले सप्ताह जैसे ही दिल्ली में कोरोना फैलने की रफ्तार तेज हुई तो दिल्ली सरकार ने घोषणा की कि दिल्ली के अस्पतालों में केवल दिल्लीवालों का इलाज होगा. इस घोषणा को सुनकर ऐसा लगा कि सरकार कह रही हो कि दिल्ली के अस्पतालों में अब तक अन्य राज्यों के लोगों का इलाज अधिक हो रहा था. सरकार का अस्पताल आरक्षण का फैसला गलत था जिसे एलजी अनिल बैजल ने दो दिन पहले ही निरस्त कर दिया है.” पत्र में कहा गया कि इन परिस्थितियों के लिए आवश्यक है कि सरकार यह स्पष्ट करे कि आखिर दिल्ली पर अन्य राज्यों के मरीजों का कितना बोझ है?

कोरोना वायरस: दिल्ली के LG ने केजरीवाल सरकार से कहा, बिस्तरों और फीस के बारे में जानकारी के लिए LED बोर्ड लगाएं


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here