Home News Ashram For Corona Patients In Mumbai, Treatment Along With Yoga ANN

Ashram For Corona Patients In Mumbai, Treatment Along With Yoga ANN

0
0

मरीजों के आयुर्वेदिक इलाज के लिए उन्हें भाप और काढ़ा उपलब्ध कराया जा रहा है. मेडिटेशन के लिए मरीजों को ऑडियो वीडियो फॉर्म में कंटेंट भी दिया जाता है.

मुंबई: मुंबई में कोरोना वायरस के आंकड़े हर दिन बढ़ते ही जा रहे हैं. मरीजों के उपचार के लिए अस्थाई अस्पताल और क्वारंटीन सेंटर बनाए जा रहे हैं. मुंबई में एक और नया प्रयोग किया गया है, जो बेहद रोचक है. मुंबई में कोरोना मरीजों के लिए आश्रम बनाया गया है. इस आश्रम में ना केवल उनका इलाज हो रहा है, धर्म चिंतन और आत्मशांति की प्रक्रिया भी चल रही है.

मुंबई समुद्र तट से लगा हुआ शहर है, जहां सालों से समुद्र के माध्यम से व्यवसाय हो रहा है. सामरिक तौर पर भी समुद्र महत्वपूर्ण है. इसलिए जल सेना और पोर्ट ट्रस्ट बहुत पहले से यहां पर सक्रिय हैं. मुंबई पोर्ट ट्रस्ट का एक अस्पताल है, जहां संस्था से जुड़े लोगों का इलाज होता है.

कोरोना के बाद मुंबई पोर्ट ट्रस्ट के अस्पताल में भी कोरोना का इलाज शुरू हुआ. स्थिति जब बिगड़ने लगी तो पोर्ट ट्रस्ट ने तय किया कि एक दूसरी इमारत में नया सेंटर बनाएंगे और यह तय हुआ कि आश्रम बनेगा. ऐसा आश्रम जहां ना केवल कोरोना से इलाज की मेडिकल सुविधाएं होंगी बल्कि बीमारी के इस दौर में मरीज की इम्यूनिटी, आत्मबल, आत्मशक्ति और स्वास्थ्य को सुधारने के दूसरे उपचार भी किए जाएंगे.

WhatsApp Image 2020 06 22 at 23.07.06

कोरोना वाला यह आश्रम दूसरे आश्रम के जैसा ही है. जहां अन्य आश्रम में आप दुनियादारी से तंग आकर विपश्यना के लिए किसी आश्रम के शरण में चले जाते हैं, यहां लोग कोरोना का इलाज कारने के लिए आते हैं. इस आश्रम में प्रवेश की शर्त यह है कि मरीज एसिंप्टोमेटिक होना चाहिए, 50 साल से कम उम्र होनी चाहिए और अस्पताल आने से पहले हर तरह की जांच हो चुकी हो, साथ ही किसी अस्पताल में 2 दिन एडमिट रह चुका हो.

इस आश्रम में ऑक्सीजन थर्मल स्कैनर, ऑक्सीजन टेस्टिंग यूनिट और दूसरी मेडिकल सुविधा दी गई है. मरीजों के लिए हॉल ऑफ योग नाम का एक हाल बनाया गया है, जहां बैठकर वह मेडिटेशन करते हैं. मेडिटेशन के लिए मरीजों को ऑडियो वीडियो फॉर्म में कंटेंट भी उपलब्ध कराया जा रहा है. योग के ऑनलाइन कोर्स करवाए जा रहे हैं. मरीजों के आयुर्वेदिक इलाज के लिए उन्हें भाप दिया जा रहा है आयुर्वेद का काढ़ा उपलब्ध कराया जा रहा है. योगा के साथ आत्मशांति देने का प्रयास किया जा रहा है सुबह और शाम को दोनों समय आश्रम के गार्डन में वॉक करने के लिए भी मरीजों को कहा जा रहा है.

ये भी पढ़ें:

भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या पहुंची सवा चार लाख के पार, अब तक 13,699 लोगों की मौत


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here