Home News Nityanand Rai Says PM Modi Is The Messiah Of The Poor ANN...

Nityanand Rai Says PM Modi Is The Messiah Of The Poor ANN | नवंबर तक मुफ्त अनाज: केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने कहा

3
0

नई दिल्लीगरीब कल्याण योजना के तहत नवंबर तक गरीबों को मुफ्त में अनाज देने की घोषणा पर बीजेपी नेताओं में पीएम की तारीफ करने की होड़ लग गई है. इस बीच केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने पीएम मोदी को ‘गरीबों का मसीहा’ बता दिया.

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने कहा है, “नरेंद्र मोदी भारत के गरीबों के मसीहा हैं, जिनके दिल में गरीबों के लिए सम्मान और अगाध प्रेम भावना हैं.”

गरीब कल्याण योजना के तहत समाज के गरीब तबके के लिए 5 किलो अनाज, 1 किलो दाल की योजना को नवंबर तक बढ़ाने का स्वागत करते हुए नित्यानंद राय ने कहा कि प्रधानमंत्री ने छठ महापर्व का उल्लेख करके बिहार एवं पूर्वांचल वासियों का मान बढ़ाया है.

नित्यानंद राय ने कहा कि नरेंद्र मोदी के दिल में गरीब जनता के लिए दर्द है और वे जानते है कि कोरोना की चुनौती के दौर में दीपावली-दशहरा और छठ में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. इसी कारण देश के 80 करोड़ लोगों के लिए मुफ्त अनाज देने की योजना को नंवबर तक बढ़ा दिया गया है.

नित्यानंद राय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की इस गरीब समर्थक महत्वाकांक्षी योजना का विरोध कर आरजेडी और कांग्रेस ने अपनी गरीब विरोधी छवि को ही चरितार्थ किया है.  सोने के पालने और चांदी के चम्मच से खा-पीकर पले-बढ़े युवराजों राहुल गांधी और तेजस्वी यादव के दिल में गरीब जनता के लिए हमदर्दी और एहसास तक नहीं है. अपने अनेकों बयानों से दोनों नेताओं ने गरीबों का मज़ाक उड़ाया है.

प्रधानमंत्री को दिल से आभार व्यक्त करते हुए नित्यानंद राय ने कहा कि 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को 3 महीने का राशन, यानी परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या चावल मुफ्त दिया गया. इसके अलावा अब नवंबर तक प्रत्येक परिवार को 5 किलो गेहूं/चावल के अलावा हर महीने 1 किलो चना भी मुफ्त दी जाएगा. इस योजना में 90 हजार करोड़ रुपए खर्च होगा. अगर इसमें पिछले तीन महीनों को खर्च भी जोड़ दें, तो ये लगभग डेढ़ लाख करोड़ रुपये हो जाता है.

यह भी पढ़ें:

PM मोदी के बाद ममता बनर्जी का बड़ा एलान, बंगाल सरकार जून 2021 तक देगी फ्री राशन


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here