Home News The corpse of Delhi Police sub-inspector was kept for 6 days for...

The corpse of Delhi Police sub-inspector was kept for 6 days for investigation of Corona – कोरोना की जांच के लिए 6 दिन तक रखा रहा दिल्ली पुलिस के सब-इंस्पेक्टर का शव 

0
0

कोरोना की जांच के लिए 6 दिन तक रखा रहा दिल्ली पुलिस के सब-इंस्पेक्टर का शव 

पश्चिमी जिले में लीगल सेल में तैनात रामलाल के शव को 6 दिन तक लापरवाही के चलते रखा रहा.

खास बातें

  • डीडीयू अस्पताल ने कोरोना सैंपल देने के लिए गोल्डन ट्यूलिप लैब भेजा
  • लैब ने डीडीयू की पर्ची स्वीकार नहीं की, वापस एमजीएस पंजाबी बाग लाए
  • एमजीएस में टेस्ट का इंतजार करते हुए तबीयत बिगड़ी, हुई मौत

नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर की कोरोना से मौत हो गई. अस्पतालों की बड़ी लापरवाही के चलते लाख कोशिश के बाद भी जिंदा रहते उसका कोरोनो टेस्ट नहीं हुआ. वहीं मौत के बाद भी कोरोनो की जांच कराने में 6 दिन लग गए और 6 दिन तक शव मोर्चरी में ही रखा रहा. इस मामले में मृतक सब-इंस्पेक्टर की पत्नी की शिकायत पर अस्पतालों की लापरवाही की जांच की जा रही है. पुलिस के मुताबिक 56 साल के सब- इंस्पेक्टर रामलाल बोरघरे पश्चिमी जिले की लीगल सेल में तैनात थे, वो अपने परिवार के साथ प्रताप विहार में रहते थे. उन्हें 5-6 दिन से बुखार आ रहा था.

यह भी पढ़ें

डीडीयू अस्पताल ने भेजा गोल्डन ट्यूलिप लैब

 1 जून को सुल्तानपुरी में एक क्लीनिक में उनका टेस्ट हुआ तो जांच में पता चला कि उन्हें टाइफाइड है. उसके बाद उन्हें तेज बुखार और सांस लेने की तकलीफ के चलते 2 जून को पंजाबी बाग के एमजीएस अस्पताल ले जाया गया. वहां से उन्हें कोरोना की जांच के लिए डीडीयू अस्पताल रेफर कर दिया गया. वहां से रामलाल को गोल्डन ट्यूलिप सेंटर कोरोना की जांच के लिए भेज दिया गया, लेकिन वहां उनकी कोरोना की जांच नहीं हुई क्योंकि डीडीयू अस्पताल ने जांच के लिए जो रेफर पर्ची दी थी वो स्वीकार नहीं कि गई.

एमजीएस में हुई मौत

उसके बाद वो वापस पंजाबी बाग के एमजीएस अस्पताल ले आये गए. वहां कहा गया अब उनका कोरोना टेस्ट अगले दिन यानि 3 जून को होगा. दरअसल ये अस्पताल कोरोना की जांच किसी लैब से कराता था. 3 जून को रामलाल का बेटा अपनी कार में लेकर एमजीएस अस्पताल कोरोनो की जांच के लिए पहुंचा. रामलाल अस्पताल के बाहर कार में बैठे थे और उनका बेटा आकाश अंदर टेस्ट के बारे में पता करने गया. इसी बीच आकाश की मां ने फोन किया कि रामलाल की तबियत खराब हो रही है,बेटा भागकर बाहर आया और पिता को अस्पताल के अंदर ले गया और शाम 6:50 बजे रामलाल की एमजीएस अस्पताल में मौत हो गई.

सैंपल लेने के लिए सरकारी आदेश का इंतजार

 अस्पताल ने रामलाल की डेथ समरी में मौत की वजह सांस लेने की तकलीफ के चलते हार्ट अटैक लिखी गई. इसके बाद आकाश के एक दोस्त ने पीसीआर कॉल कर शिकायत की और कहा कि रामलाल की मौत कोरोना के चलते हुई है लेकिन रात पौने 9 बजे तक उनकी कोरोना की जांच नहीं कि गई. उसके बाद 4 जून को पुलिस ने एसडीएम पंजाबी बाग को पत्र लिखकर रामलाल के शव से कोरोना के सैंपल लेने के लिए कहा. इसके बाद एसडीएम पंजाबी बाग ने संजय गांधी अस्पताल के एमएस को लेटर लिखकर रामलाल की कोरोनो जांच करने के लिए कहा,लेकिन 6 जून को संजय गांधी अस्पताल के डॉक्टरों ने शव से कोरोना के सैंपल लेने से यह कहते हुए मना कर दिया कि दिल्ली सरकार के आदेश के हिसाब से डेड बॉडी से कोरोनो के सैंपल नहीं ले सकते.

लापरवाही की शिकायत

उसके बाद 6 जून को मृतक रामलाल की पत्नी ने पुलिस में शिकायत कर एमजीएस अस्पताल की लापरवाही की जांच करने के लिए कहा. इसके बाद 8 जून पश्चिमी दिल्ली के डीसीपी ऑफिस से दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग को पत्र लिखकर एक मेडिकल बोर्ड बनाकर रामलाल के शव का पोस्टमार्टम कराने के लिए कहा गया जिससे रामलाल की पत्नी के आरोपों की जांच हो सके.

मौत के 6 दिन बाद लिया गया कोरोना सैंपल 

उसके बाद दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने लेडी हार्डिंग अस्पताल को एक मेडिकल बोर्ड बनाकर रामलाल के पोस्टमॉर्टम का आदेश दिया,फिर 9 जून को रामलाल के शव को लेडी हार्डिंग अस्पताल में शिफ्ट किया गया,जहां उसका रामपाल के कोरोना जांच के लिए सैंपल लिए गए. 10 जून को रामलाल की कोरोनो की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई,. रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर नियम के हिसाब से फिर रामलाल का पोस्टमार्टम नहीं किया गया और उसके बाद रामलाल के घरवालों ने उसका अंतिम संस्कार किया. 


रामपाल की मौत से उनका परिवार तो सदमे में है ही,लेकिन रामलाल की मौत के पहले और बाद में जिस तरह इस कोरोनो वारियर के परिवार ने इलाज़ और कोरोनो जाँच के लिए दर दर धक्के खाये वो अनुभव ये परिवार शायद ही भूल पाए,दिल्ली पुलिस में कोरोनो से अब तक 7 पुलिसकर्मियों की मौत हो चुकी है,शनिवार को क्राइम ब्रांच में तैनात 53 साल के एएसआई संजीव कुमार की जीटीबी अस्पताल में कोरोना से मौत हो गई,संजीव मरकज़ मामले की जांच से जुड़े थे और जांच सिलसिले में वो छापेमारी पर गए थे

 

VIDEO : दिल्ली पुलिस के ASI की कोरोना से मौत 


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here