Home News 4.2 lakh tests are being done daily in India but rising infection...

4.2 lakh tests are being done daily in India but rising infection rate alarm bells – भारत में प्रतिदिन हो रहे है 4.2 लाख टेस्ट लेकिन बढ़ता इंफेक्शन रेट खतरे की घंटी

0
0

भारत में प्रतिदिन हो रहे है 4.2 लाख टेस्ट लेकिन बढ़ता इंफेक्शन रेट खतरे की घंटी

देश में टेस्ट प्रति मिलियन (टीपीएम) में भी लगातार वृद्धि देखी जा रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

अमेरिका और ब्राजील के बाद कोरोनोवायरस दुनियाभर में सबसे ज्यादा प्रभावित देशों की सूची में तीसरे स्थान पर बने हुए भारत ने धीरे-धीरे अपनी COVID-19 परीक्षण क्षमता को बढ़ा दिया है और एक दिन में 4.2 लाख से अधिक परीक्षण किए हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि इस उपलब्धि का श्रेय प्रयोगशालाओं की बढ़ती संख्या को दिया. यह तब हुआ है जब देश उस दर को नीचे लाने के लिए संघर्ष कर रहा है जिस पर संक्रमण फैल रहा है, जो अमेरिका और ब्राजील की तुलना में लगभग दोगुना है. जब जनवरी में प्रकोप शुरू हुआ उस वक्त 130 करोड़ से अधिक लोगों के देश के पास COVID-19 परीक्षण करने के लिए केवल एक प्रयोगशाला थी. लेकिन छह महीने के भीतर, कोरोनोवायरस परीक्षण करने के लिए प्रमाणित प्रयोगशालाओं की संख्या बढ़कर 1,301 हो गई है. इसमें उन निजी लैबों को भी शामिल किया गया है जिन्होंने परीक्षण किट हासिल कर ली हैं और कोरोनोवायरस के खिलाफ लड़ाई में शामिल हो गए हैं. देश में टेस्ट प्रति मिलियन (टीपीएम) में भी लगातार वृद्धि देखी जा रही है, जिसमें प्रयोगशालाओं की संख्या में वृद्धि हुई है और केंद्र की रणनीति ‘टेस्ट, ट्रैक, ट्रीट’ को अपनाया गया है. मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटों में 4,20,898 नमूनों की जांच के साथ, टेस्ट प्रति मिलियन यानि टीपीएम बढ़कर 11,485 हो  गया है और यह लगातार ऊपर की ओर बना रहा है.

यह भी पढ़ें

हालांकि यह उपलब्धि ऐसे समय में आई है जब भारत के कोरोनोवायरस मामलों में प्रतिदिन की वृद्धि दर 3.7 प्रतिशत थी, जबकि अमेरिका में यह 1.7 प्रतिशत और ब्राजील में 1.9 प्रतिशत थी. इस दर पर, भारत लगभग एक महीने में और अमेरिका से केवल दो महीनों में ब्राजील से आगे निकल सकता है. शुक्रवार तक, देश में 1.58 करोड़ से अधिक COVID-19 परीक्षण किए गए थे. मंत्रालय ने कहा कि पिछले एक सप्ताह से हर दिन 3.5 लाख परीक्षण किए जा रहे हैं. 

मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “केंद्र सरकार ने सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश सरकारों को ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग के साथ ‘टेस्ट, ट्रैक एंड ट्रीट’ की रणनीति बनाए रखने की सलाह दी है, जिससे शुरुआत में प्रतिदिन पॉजिटिव मामलों की संख्या अधिक हो सकती है, लेकिन अंततः इसमें गिरावट आएगी, जैसा कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में केंद्र सरकार के लक्षित प्रयासों के बाद देखने को मिला किया गया है “

कोरोनावायरस के लिए नमूनों के परीक्षण में वृद्धि के साथ, मृत्यु दर शनिवार को 2.35 प्रतिशत तक गिर गई है और ठीक होने वाले मरीजों की दर बढ़कर 63.54 प्रतिशत हो गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, “भारत में दुनिया में सबसे कम मृत्यु दर है.” यह कहा गया कि मृत्युदर में गिरावट का रुझान केंद्र, राज्य और केंद्रशासित प्रदेश सरकारों के सामूहिक प्रयासों को दर्शाता है, जिन्होंने कोरोनावायरस की मृत्यु दर की जांच करने में मदद की है, देश में 8,49,431 लोग ठीक हो चुके हैं. जबकि एक्टिव मामलों की संख्या 3,93,360 है. हालांकि, शनिवार को 48,916 ताजा मामलों के साथ, भारत का COVID 19 टैली आज 13 लाख से अधिक हो गई है, जबकि मृत्यु संख्या 31,358 हो गई.

(इनपुट पीटीआई से भी )

पुणे में कैसे हो रहा है कोरोना संक्रमितों का इलाज ?


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here