Home News Madhya Pradesh Woman Makes eco-friendly rakhis Ganesh idols and more using Cow...

Madhya Pradesh Woman Makes eco-friendly rakhis Ganesh idols and more using Cow Dung

3
0

'आत्मनिर्भर भारत' की मिसाल, मध्य प्रदेश की श्वेता ने गाय के गोबर से बनाई राखियां

खास बातें

  • इंदौर की रहने वाली हैं श्वेता पालीवाल
  • गाय के गोबर से बनाई राखी व प्रतिमाएं
  • पीएम नरेंद्र मोदी को राखी भेजेंगी श्वेता

इंदौर:

कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने देश को ‘आत्मनिर्भर भारत’ (Aatmanirbhar Bharat) का मंत्र दिया. इसी से प्रेरित होकर मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के इंदौर की रहने वालीं श्वेता पालीवाल ने रक्षाबंधन व गणेश चतुर्थी पर्व के मद्देनजर गाय के गोबर का इस्तेमाल कर इको-फ्रेंडली राखियां, भगवान गणेश की प्रतिमा व अन्य साजो-सामान तैयार किया है. श्वेता चीन की वस्तुओं का बहिष्कार करने की पैरवी कर रही हैं और भारत में बने उत्पादों को प्रमोट कर रही हैं. वह भगवान की मूर्ति और राखियां पीएम मोदी को भी भेजने की बात कह रही हैं.

यह भी पढ़ें

श्वेता पालीवाल डिजाइनर मास्क भी तैयार कर रही हैं. वह कॉटन के बने मास्क पर खुद पेंटिंग भी कर रही हैं. उन्होंने इस बारे में कहा, ‘प्रकृति को ध्यान में रखते हुए मैं इन उत्पादों को स्क्रैप मैटेरियल से तैयार कर रही हूं. मैंने पिछले साल इसकी शुरूआत की थी और अब मैं दूसरों को भी इसकी ट्रेनिंग दे रही हूं. यह राखियां प्रकृति को जरा भी नुकसान नहीं पहुंचाएंगी क्योंकि यह मिट्टी और पानी में घुल जाती हैं. मैं पीएम मोदी के आत्मनिर्भर भारत और वोकल फॉर लोकल कैंपेन को प्रमोट करने पर भी काम कर रही हूं.’

उन्होंने आगे कहा, ‘प्रतिमाएं बनाने में गाय के गोबर, तुलसी के बीज व अन्य चीजों का इस्तेमाल किया गया है. यह लाइटवेट हैं और पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाती हैं. मैंने गाय की प्रतिमा, दीया, एंटी-रेडिएशन मोबाइल स्टैंड आदि भी बनाया है. मैं ये राखी, गणेश प्रतिमा और सिक्के पीएम मोदी को भेजूंगी.’

VIDEO: ‘आत्मनिर्भर भारत’ को चीन के मामले से जोड़कर देखना सही नहीं : नितिन गडकरी

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here