Home News RBI Governor address CII National Council, skips queries on extending Loan Moratorium...

RBI Governor address CII National Council, skips queries on extending Loan Moratorium – क्या लोन पर मोरेटोरियम की छूट की सुविधा और बढ़ेगी? RBI गर्वनर ने नहीं खोले पत्ते

0
0

क्या लोन पर मोरेटोरियम की छूट की सुविधा और बढ़ेगी? RBI गर्वनर ने नहीं खोले पत्ते

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

आरबीआई गवर्नर ने कहा है कि भारत की अर्थव्यवस्था में सुधार कब और कैसे होगा इस पर अभी कुछ भी कहना मुश्किल है. CII की नेशनल काउंसिल को सम्बोधित करते हुए RBI गवर्नर ने कहा कि इस संकट के दौर में भारतीय अर्थव्यवस्था में पांच बड़े ट्रेंड नज़र आ रहे हैं. हालांकि क्या आरबीआई लोन पर मोरेटोरियम की अवधी में और छूट देगी, इस अहम् सवाल पर आरबीआई गवर्नर ने उद्योगपतियों के सवालों पर अपने पत्ते नहीं खोले. देश में बढ़ते कोरोना संकट और कमज़ोर पड़ी अर्थव्यवस्था के दौर में राहत देने के लिए क्या आरबीआई लोन पर मोरेटोरियम की छूट की सुविधा और बढ़ाएगी?

सोमवार को उद्योग संघ CII के साथ इंटरेक्शन के दौरान आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास के सामने दो सुझाव रखे गए. बैंकर दीपक पारेख ने कहा – ऐसा करना गलत होगा, उद्योगपति राकेश मित्तल ने कहा – ये सुविधा और बढ़ाना जरूरी है.

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने इस मसले पर अपने पत्ते नहीं खोले हैं. उद्योगपतियों के साथ सीधे संवाद के दौरान आरबीआई गवर्नर ने कहा इस आर्थिक अनिश्चितता के दौर में भारतीय अर्थव्यवस्था में बेहद महत्वपूर्ण बदलाव दिख रहे हैं.

अर्थ्यव्यवस्था में 5 बड़े बदलाव

  • कृषि क्षेत्र बड़े सुधार और परिवर्तन की ओर अग्रसर है
  • बिजली क्षेत्र में Renewable एनर्जी की हिस्सेदारी मार्च 2015 के 11.8% से बढ़कर मार्च 2020 में 23.4% बढ़ गयी है
  • इंफ्रास्ट्रक्चर विकास की रफ़्तार का ‘फ़ोर्स मल्टीप्लायर’ है, टारगेट पूरा करने के लिए भारत को 2030 तक 450 ट्रिलियन डॉलर की ज़रुरत होगी
  • इनफार्मेशन और कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी और स्टार्ट-ऑप का महत्व काफी ज्यादा बढ़ गया है
  • भारत और विश्व स्तर पर सप्लाई और वैल्यू चेन में बड़े बदलाव हुए हैं, उनका महत्व भी बढ़ा है
  • VIDEO: RBI गवर्नर बोले- 2020-21 में GDP नेगेटिव में जा सकती है


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here